Logo
ब्रेकिंग
हेरिटेज ट्रेन चलाने का खेल!....वेबसाइट पर नो रूम व लंबी वेटिंग, ट्रैक पर ट्रेन चल रही पूरी खाली एक्सेस पेमेंट का टेरर...भुगतान के बाद स्टेबल की प्रकिया, अब वसूली की तैयारी एक्सेस पेमेंट का टेरर....रेलवे में बांट दिया अतिरिक्त पेमेंट, रिटायर्ड कर्मचारी के खाते में भी आता र... रक्तदान का पुण्य काम....पूर्व अध्यक्ष स्व. उमरावमल पुरोहित की याद में 55 यूनिट रक्तदान रेलवे डीजल शेड के एएमएम के खिलाफ महिला कर्मचारियों ने लगाया उत्पीड़न का आरोप ट्रेनों में चोरों की मौज....एक ही दिन में पांच ट्रेनों का निशाना, गहनें व रुपए से भरे बैग चोरी आज का एमएलए...सैलाना विधायक कमलेश्वर डोडियार पर आखिर प्रकरण दर्ज गौरवपूर्ण इतिहास....एआईआरएफ के नाम भारत सरकार ने डाक टिकट किया जारी मिनी मैराथन के दो हीरो...एथलीट जूलियस चाको व इंदु तिवारी की सफलता को किया सलाम वार्षिकोत्सव एवं बासंती काव्य समागम... इंद्रधनुषी छटाओं से सजी रचनाओं से श्रोता हुए मंत्रमुग्ध

मैं और मेरी कविता

न्यूज़ जंक्शन-18 हम आपके लिए इस बार महिला रचनाकार विशेष तीन कविता लेकर आए है। मर्यादा पुरुषोत्तम राम से जुड़ी कविता में राजीव नयन के व्यक्तित्व व कृतित्व का पहलुओं का बेहतरी से समावेश किया है। इसके अलावा अन्य उम्दा कविता भी पेश की जा रही है।
जलज शर्मा
संपादक, न्यूज़ जंक्शन-18
मोबाइल नंबर 9827664010

कविताओं के प्रमुख चयनकर्ता
संजय परसाई ‘सरल’
मोबाइल नंबर 9827047920
—————

राम

धैर्य नाम राम है
अजर वो राम है
विधि विधान राम है
सत्य वो राम है।

विपत्तियों से लड़े
वो शक्ति राम है
गहरे भाव से
भक्ति का नाम राम है।

राज से बनवास तक
बनवास से राम है
सहज, सरल और अटल
महारथी वो राम है।

मर्यादा में डटे वो
पुरुषोत्तम राम है
प्रतिमान दिन मान
चमकते वो राम है।

तुलसी का वरदान
वाल्मीकि का राम है
आदर्श का प्रतिमूर्ति
वो राम भगवान है।

-मित्रा शर्मा
महू (मप्र)
———–
मुड़कर देख लेना

कदम बढ़ा कर पीछे हटा न लेना
संग चल न सको कभी तो
धीरे-धीरे ही सही मगर
चाल बनाएँ रखना ना रुकना
फासले लाख हों जाएँ दरमियान मगर
दिल में जगह थोड़ी-सी बनाए रखना
जब भी दिल करे अलविदा कहने का
मुड़कर देख लेना और
लबों पर मुस्कान बनाएँ रखना

-कविता सूर्यवंशी
रतलाम (मप्र)।
————–

जाएंगे एक दिन जो छोड़

 

सुख पाने को कभी न जाना
कदमों को तुम लेना मोड
समझ रहे हो जिनको अपना
जाएंगे एक दिन जो छोड़ ।

सुखे गुलाबों से खुशबू का
कण- कण जब उड़ जाएगा
ना चाहूंगी लेकिन तुमको
याद कोई तो आएगा
बांध न लेना ऐसे बंधन
जिनको तुम ना पाओ तोड़
समझ रहे हो जिनको अपना
जाएंगे एक दिन जो छोड़ ।

आधे अधूरे से वह किस्से
आंखों में रह जाएंगे
याद करोगे जब भी उनको
आंसू बन ही आएंगे
जिनकी याद न जीने दे
ना लेना उनसे रिश्ते जोड़
समझ रहे हो जिनको अपना
जाएंगे एक दिन जो छोड़ ।

आडे ,तिरछे और धुंधले से
नाम लिखे जो किताबों में
याद ही उनके साथ रहेगी
छोड़ गए जो राहों में
जिन पन्नों पर नाम लिखा हो
उनको तो तुम देना मोड़
समझ रहे हो जिनको अपना
जाएंगे एक दिन जो छोड़ ।

-नेहा शर्मा
खेड़ा, बदनावर
जिला धार (मप्र)।

Leave A Reply

Your email address will not be published.