Logo
ब्रेकिंग
अनुकंपा नियुक्ति की पीड़ा...पीड़ित नौकरी का राग अलापते रहे, बड़े साहब सुनते रहे राग भैरवी नई कहानी...? विधायक कमलेश्वर को मुख्यमंत्री शिवराज ने खिलाई मिठाई, दी जीत की बधाई सुरक्षा 'कवच' के साथ 2024 से बड़ौदा-नागदा के बीच चलेगी '160 की गति' से ट्रेनें एमडीडीटीआई संस्थान में मनाया गया महापरिनिर्वाण दिवस, पौधरोपण कर डॉ. अम्बेडकर को किया याद टायर बस्ट होते ही पेड़ से जा टकराई कार, बाल-बाल बचा चालक भा गए भैयाजी...रतलाम के मन में भैयाजी, जनता के मन में भरोसा... ईमानदारी और निष्ठा के साथ राजनीति की जाए, तो जनता सर आंखों पर बिठाती है - विधायक चेतन्य काश्यप 5 विधानसभा सीटों में से 4 पर भाजपा की जीत, सैलाना से डोडियार ने बाजी मारी मैं और मेरी कविता रेलवे मटेरियल विभाग की घूसखोरी...12 स्थानों पर तलाशी में मिले काली कमाई के सबूत, आरोपी आज होंगे न्या...

96 वर्ष पुराने ब्रॉडगेज टर्न टेबल को रेनोवेशन किया, टनल दोनों दिशाओं में चल सकेगी

-यांत्रिक विभाग द्वारा रेनोवेट टर्न टेबल का डीआरएम ने किया शुभारंभ।

न्यूज जंक्शन-18
रतलाम। रेलवे स्टेशन के पास कंटेनर डिपो के पास बनी हुई ब्रॉडगेज टनल अब दोनों दिशा में चल सकेगी। इससे जहां इंजिन की दिशा नहीं बदलना पड़ेगी। वहीं मानव श्रम व समय की बचत भी होगी।
96 वर्ष पुराने ब्रॉडगेज टर्न टेबल को रेल मंडल के यांत्रिक विभाग ने मरम्मत व रेनोवेशन किया है।
दरअसल रेल अधिकारियों के सेलून व डेमू ट्रेन को खड़ा किया जाता है। इंजन जोड़ते वक्त पूरे सेलून को इंदौर रेल लाइन के आउटर तक घुमाकर विपरीत दिशा में लाना होता था। लेकिन ये टनल अब दोनों दिशा में चल सकेगी। इससे इंजन किसी भी अधिकारी के सेलून में दोनों दिशा में लग सकेगा। 267 टन से अधिक वजन की इस टनल का एक साल से रखरखाव का काम चल रहा था।
बुधवार को रेनोवेटेड बीजी टर्न टेबल की शुरुआत डीआरएम रजनीश कुमार, एडीआरएम अशफाक अहमद सहित अन्य अधिकारियों की मौजूदगी में हुई है। इस दौरान वरि मंडल यांत्रिक अभियंता प्रमोद कुमार मीना ने टर्न टेबल की कार्य विधि एवं फर्म मेसर्स सोहम इंटरप्राइजेज के माध्यम से की गई रिपेयर कार्यवाही के बारे में जानकारी दी। वर्तमान में इस टर्न टेबल का उपयोग डेमू ट्रेन के डीपीसी, सेलून, स्पीक (सेल्फ प्रोपेल्ड इंस्पेक्शन कार), पावर कार आदि की दिशा बदलने में उपयोगी होगा।


रेलवे पीआरओ के मुताबिक 3 मई 2022 से टर्न टेबल अंडर रिपेयर होने के कारण सर्विस में नहीं था। इसके कारण रोलिंग स्टॉक के दिशा परिवर्तन करने रोलिंग स्टॉक को अतिरिक मूवमेंट कर अतिरिक्त कर्मी, लोको, मार्ग, समय आदि के साथ फतेहाबाद-इंदौर ट्रैंगल से टर्निंग कराई जा रही थी। 267 से अधिक टन की है इंग्लेंड से आई ये टनल 267.5 टन की है। 1927 में इसको लगाया गया था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.