Logo
ब्रेकिंग
हेरिटेज ट्रेन चलाने का खेल!....वेबसाइट पर नो रूम व लंबी वेटिंग, ट्रैक पर ट्रेन चल रही पूरी खाली एक्सेस पेमेंट का टेरर...भुगतान के बाद स्टेबल की प्रकिया, अब वसूली की तैयारी एक्सेस पेमेंट का टेरर....रेलवे में बांट दिया अतिरिक्त पेमेंट, रिटायर्ड कर्मचारी के खाते में भी आता र... रक्तदान का पुण्य काम....पूर्व अध्यक्ष स्व. उमरावमल पुरोहित की याद में 55 यूनिट रक्तदान रेलवे डीजल शेड के एएमएम के खिलाफ महिला कर्मचारियों ने लगाया उत्पीड़न का आरोप ट्रेनों में चोरों की मौज....एक ही दिन में पांच ट्रेनों का निशाना, गहनें व रुपए से भरे बैग चोरी आज का एमएलए...सैलाना विधायक कमलेश्वर डोडियार पर आखिर प्रकरण दर्ज गौरवपूर्ण इतिहास....एआईआरएफ के नाम भारत सरकार ने डाक टिकट किया जारी मिनी मैराथन के दो हीरो...एथलीट जूलियस चाको व इंदु तिवारी की सफलता को किया सलाम वार्षिकोत्सव एवं बासंती काव्य समागम... इंद्रधनुषी छटाओं से सजी रचनाओं से श्रोता हुए मंत्रमुग्ध

विरोध प्रदर्शन: कामरेड बोले-मांगों पर ध्यान नही, चुनाव जीतने के लिए रेवड़ी कल्चर चरम पर

-विभिन्न ट्रेड यूनियन के नेताओ ने आयोजित सभा में अपने विचार व्यक्त किए।
न्यूज़ जंक्शन-18
रतलाम। मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव यूनियन द्वारा देश भर में हड़ताल कर अपनी 8 सूत्रीय मांगों को लेकर जोरदार प्रदर्शन किया। इसी तारतम्य में रैली निकालकर विरोध जताया गया। कलेक्टोरेट पहुंचकर नारेबाजी की तथा कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपा गया।
प्रेस क्लब पर विभिन्न ट्रेड यूनियन के नेताओ ने आयोजित सभा अपने विचार व्यक्त किए। पोस्टल एम्प्लाइज यूनियन के कॉम. आई एल पुरोहित, एल आई सी के प्रियेश शर्मा, पेंशनर्स संघ के कीर्ति शर्मा, सीटू के एम एल नगावत, आंगनवाड़ी संघ की संरक्षक श्रीमती गीता देवी राठौर, बैंक एम्प्लाइज यूनियन के नरेंद्र जोशी, लेखक संघ के रणजीत सिंह ने अपने विचार व्यक्त किए। कॉम नरेंद्र जोशी ने कहा कि वर्तमान समय में सरकारों द्वारा आमजन को भ्रमित किया जा रहा है, मंहगाई चरम पर है, प्रदेश की वित्तीय स्थिति दयनीय है परंतु चुनाव जीतने के लिए रेवड़ी संस्कृति चरम पर है। जनता का ध्यान भटकाने के लिए मंदिर मस्जिद मुद्दों को उठाया जाता है। ओल्ड पेंशन स्कीम, को लेकर शीघ्र आंदोलन शुरू किया जाएगा।

प्रादेशिक उपाध्यक्ष अश्विनी शर्मा ने बताया कि आज की हड़ताल मुख्य रूप से आमजन से जुड़ी मांगे जैसे दवाओं पर 0 प्रतिशत जी एस टी, चिकित्सीय उपकरणों को टैक्स साथ ऑनलाइन दवा व्यापार को बंद किया जाए, दवाओं के अनैतिक व्यापार को लेकर नीति बनाई जाए, निरंकुश दवा कंपनियों के दमन को रोका जाए, न्यूनतम वेतन 26000, चार श्रम संहिताओं को वापस लिया जाए व पुराने श्रम संहिताओं को बहाल किया जाना शामिल है।। सभा के पश्चात हड़ताली कर्मचारियों द्वारा जोरदार प्रदर्शन नारेबाजी की गई। शौक नही मजबूरी है, ये हड़ताल जरूरी है… दवाओं के दाम कम करो… न्यूनतम वेतन देना होगा… कटनी छटनी बंद करो… जैसे नारों से कलेक्टोरेट परिसर गुंजायमान था। अपनी मांगों को लेकर एक ज्ञापन एस डी एम संजीव केशव पांडे को सौंपा। ज्ञापन का वाचन निखिल मिश्र ने किया। इस अवसर पर अभिषेक जैन, रसीद खान, स्नेहिल मोघे, अविनाश पोरवाल, संजय व्यास, गोपाल चौहान, आशिक अंसारी, पवन धाकड़, रविन्द्र शर्मा, उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन गजेंद्र सिंह रावत ने आभार यदेंद्र जोशी ने व्यक्त किया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.