Logo
ब्रेकिंग
हेरिटेज ट्रेन चलाने का खेल!....वेबसाइट पर नो रूम व लंबी वेटिंग, ट्रैक पर ट्रेन चल रही पूरी खाली एक्सेस पेमेंट का टेरर...भुगतान के बाद स्टेबल की प्रकिया, अब वसूली की तैयारी एक्सेस पेमेंट का टेरर....रेलवे में बांट दिया अतिरिक्त पेमेंट, रिटायर्ड कर्मचारी के खाते में भी आता र... रक्तदान का पुण्य काम....पूर्व अध्यक्ष स्व. उमरावमल पुरोहित की याद में 55 यूनिट रक्तदान रेलवे डीजल शेड के एएमएम के खिलाफ महिला कर्मचारियों ने लगाया उत्पीड़न का आरोप ट्रेनों में चोरों की मौज....एक ही दिन में पांच ट्रेनों का निशाना, गहनें व रुपए से भरे बैग चोरी आज का एमएलए...सैलाना विधायक कमलेश्वर डोडियार पर आखिर प्रकरण दर्ज गौरवपूर्ण इतिहास....एआईआरएफ के नाम भारत सरकार ने डाक टिकट किया जारी मिनी मैराथन के दो हीरो...एथलीट जूलियस चाको व इंदु तिवारी की सफलता को किया सलाम वार्षिकोत्सव एवं बासंती काव्य समागम... इंद्रधनुषी छटाओं से सजी रचनाओं से श्रोता हुए मंत्रमुग्ध

अनुकंपा नियुक्ति की पीड़ा…पीड़ित नौकरी का राग अलापते रहे, बड़े साहब सुनते रहे राग भैरवी

-रेल संगठनों के साथ पहुंचे दिवंगत रेलकर्मियों के परिजनों ने पश्चिम रेलवे जीएम से लगाई नौकरी देने की गुहार।

-पांच मिनट सुनी-अनसुनी के बाद जोन के मुखिया चले गए संगीत की वेलकम पार्टी में, देर तक चला दौर।

 

फ़ोटो-म्युजिकल पार्टी में मौजूद अधिकारी।

न्यूज़ जंक्शन-18

रतलाम। रेल मंडल में दर्जनभर से अधिक लंबित अनुकंपा नियुक्ति के मामले अफसरों की वेलकम पार्टी के शोर में दबकर रह गए।

पश्चिम रेलवे जोन के मुखिया दो दिन पहले रतलाम दौरे पर आए। तब दिवंगत रेलकर्मियों के परिजनों को अनुकंपा मामले में सुनवाई की आस बंधी थी। सोचा था कि बड़े साहब सुनवाई कर उन्हें अनुकंपा नियुक्ति दिलवाएंगे। इसके दीगर रेल संगठनों के साथ परिजन रेलवे स्टेशन पहुंचे। तब उन्हें घोर निराशा हाथ लगी। नौकरी का राग अलाप (विलाप) कर रहे पीड़ितों की पीड़ा को महाप्रबंधक अशोक कुमार मिश्र अनसुना कर गए। इस मामले में महज 4 से 7 मिनट की फौरी चर्चा की गई। बीच में खड़े रेल संगठनों के पदाधिकारियों से रास्ता साफ करवाते हुए इन्हें चलता किया और सीधे जा पहुंचे वेलकम म्युजिकल पार्टी में…। वहां देर रात तक गीत संगीत का दौर चला। राग यमन व भैरवी के फ़िल्मी गानों के बीच दयापूर्ण अनुकंपा नियुक्ति को लेकर पीड़ितों की आह पूरी तरह से दब गई।

फ़ोटो- अनुकंपा मामले में पीड़ितों के साथ संगठन के पदाधिकारी।

मालूम हो कि रेल संगठनों की मुख्य मांग है कि कोरोना सहित बाद में दिवंगत हुए रेलवे कर्मचारियों के पात्र वारिसों को अनुकंपा नियुक्ति दी जाए। बताया जा रहा है कि रेल प्रशासन ने परिवारिक सक्षमता सहित अधिक उम्र को आधार मानकर 14 से 15 अनुकंपा के प्रकरणों को अस्वीकृत कर दिए है। यह भी बताया जा रहा कि नियोक्ता अधिकारी द्वारा मामले को संज्ञान में लेकर फाइल को डीआरएम स्तर तक भिजवाई गई। लेकिन मंडल स्तर पर सुनवाई न कर फ़ाइल ठंडे बस्ते में डाल दी गई। इसी वजह से 7 दिसंबर को सेफ्टी इंस्पेक्शन पर आए महाप्रबंधक से रेल संगठनों के साथ पीड़ित परिजन मिलने पहुंचे थे।

संगठनों ने अन्य मांगों पर भी ध्यान दिलाया

फ़ोटो- जीएम को ज्ञापन देते मजदूर संघ पदाधिकारी।

वेस्टर्न रेलवे मजदूर संघ रतलाम मंडल के मंडल मंत्री अभिलाष नागर एवं अध्यक्ष प्रताप गिरी के नेतृत्व में समस्या व मांगों का ज्ञापन महाप्रबंधक को सौंपा। सहायक मंडल मंत्री योगेश पाल, सहायक मंडल मंत्री गौरव दुबे,जेसी बैंक डायरेक्टर वाजिद खान,शाखा सचिव संजय कुमार, शाखा अध्यक्ष हिमांशु पिटारे, विशाल गुप्ता, रणधीर सिह गुर्जर, अशोक टंडन, अखिल शर्मा, चांद खान, मोहित टांक सहित अन्य मौजूद रहे।

यूनियन के ज्ञापन में भी अनुकंपा का मामला प्रमुख

फ़ोटो-जीएम को ज्ञापन सौंपते यूनियन के पदाधिकारी।

वेस्टर्न रेलवे एम्प्लाइज यूनियन के प्रतिनिधि मंडल के मंडल मंत्री मनोहर सिंह बारठ एवं मंडल अध्यक्ष नरेंद्र सिंह सोलंकी ने जीएम को ज्ञापन दिया। इसमें भी अनुकंपा मामले को प्रमुखता से उठाया गया। इसके अलावा पिछले 5 वर्षों से लंबित प्रमोशन सहित अन्य मांगें भी उठाई गई।

इस अवसर पर मंडल कार्यालय सचिव अशोक तिवारी, ट्रैफिक ब्रांच सचिव हेमंत मिश्रा, मनीष जोशी, नीरज सतीजा, कपिल गुर्जर, सुनील डागर, दिनेश छापरी, रोहित देशबंधु, जनरल ब्रांच सचिव पंकज पंवार, चित्तौड़ ब्रांच से नारायणलाल पटवा महिला समिति से नमिता कुमायूं एवं अन्य कई साथी अवसर पर उपस्थित रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.